Meteorology in Hindi (अतंरिक्ष विज्ञान)

 इस Article में Meteorology in Hindi (अतंरिक्ष विज्ञान)  के बारे में जानकारी Share की गयी है। जिसमे आपको What is Meteorology in Hindi (अतंरिक्ष विज्ञान क्या है ?), Meteorology के क्षेत्र में कैरियर कैसे बनाएं?, Meteorology के क्षेत्र में Carrier बनाने के लिए विशेष योग्यताएं और Education Qualification आदि की जानकारी मिलेगी। 

Meteorology in Hindi (अतंरिक्ष विज्ञान)

Meteorology in Hindi (अतंरिक्ष विज्ञान) 

अंतरिक्ष विज्ञान एक व्यापक शब्द है जिसमें ब्रह्मांड में पाए जाने वाले आकाशीय पिंडो का अध्ययन किया जाता है। सामान्य तौर पर अंतरिक्ष विज्ञान का अर्थ होता है पृथ्वी के अतिरिक्त यानी कि पृथ्वी के वातावरण से बिल्कुल बाहर जैसे आकाशगंगा, धूमकेतु ग्रह, तारे आदि यह सभी को खगोल विज्ञान का भी हिस्सा माना जाता है लेकिन विगत कुछ वर्षों में खगोल विज्ञान के क्षेत्र में कुल 8 श्रेणियां बनाई गई है। यह आठ श्रेणियां है खगोल भौतिकी, गैलेक्सी विज्ञान, तारिकीय विज्ञान, पृथ्वी से संबंधित ग्रह विज्ञान, अन्य ग्रहों का जीव विज्ञान, अंतरिक्ष यात्रा, अंतरिक्ष उपनिवेशीकरण और अंतरिक्ष रक्षा यह सभी खगोल विज्ञान के वर्णनात्मक श्रेणियों में आते हैं। अंतरिक्ष विज्ञान में अंतरिक्ष अनुसंधान का कार्य क्षेत्र और अंतरिक्ष की खोज यह दोनों अलग-अलग कार्य करते हैं। अंतरिक्ष विज्ञान विज्ञान की वह भाग है जिसके अंतर्गत पृथ्वी से जुड़े सूर्य-चंद्रमा, ग्रह-तारे और धूमकेतु जैसे कई सारे अंतरिक्ष पिंडो के बारे में अध्ययन किया जाता है।
 
Meteorology में पृथ्वी के तापमान और वायुमंडलीय दशाओं से जुड़ी विविधता के अध्ययन को दर्शाया जाता है। उपग्रह और अन्य तकनीकों के मदद से वैज्ञानिक मौसम का भविष्य दशा बहुत सटीक तरीके से पता करते हैं। अंतरिक्ष विज्ञान के कारण पृथ्वी और वायुमंडल की गति का पता लगा सकते हैं। Space वैज्ञानिकों के द्वारा ही यह संभव हो पाया है कि हम मौसम के बारे में मौसम की दशा हम पहले से ही जान सकते हैं।

Meteorology के क्षेत्र में कैरियर कैसे बनाएं?

अगर आप Meteorology के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं या फिर इस क्षेत्र में काम करने कि आपको रुचि है तो इसरो (ISRO) आपको यह सुनहरा मौका देता है कि आप यहां पर आकर अपने कुशलता के आधार पर काम करें। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में नए नए युवाओं को जो वैज्ञानिक होते हैं उन्हें काम करने का अवसर दिया जाता है।
सभी लोगों के जीवन में बहुत बड़ा सपना होता है और वे चाहते हैं कि वह सबसे ऊंचा स्थान पर रहे लेकिन यह आसान बिल्कुल नहीं होता क्योंकि है इसके लिए आपको लगातार कठिन परिश्रम करनी होती है। अगर हम अंतरिक्ष विज्ञान की बात करें तो यह बहुत कठिन कार्यों में से एक है इस काम को करने के लिए आप में बहुत अधिक तर्कशक्ति और ज्ञान की जरूरत पड़ती है। इस क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारियों को वैज्ञानिक कहा जाता है यह वैज्ञानिक इतना विद्वान होते हैं कि ये भविष्य में होने वाले मौसमों की दशा की जानकारी बिल्कुल सही रूप में देते हैं।

Meteorology के क्षेत्र में Carrier बनाने के लिए विशेष योग्यताएं और Education Qualification

अगर आप Meteorology किस क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो आपको अपनी कक्षाओं में विषय सिलेक्ट करने से पहले अपने अध्यापकों से बात कर सकते हैं जिससे आप को समझने में काफी आसानी होगी। इस आर्टिकल की मदद से आप जान पाएंगे कि हमें कौन-कौन सी विषय चूस करनी चाहिए जिससे हम अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में अपना भविष्य बना सकते हैं 
अगर आप दसवीं क्लास में हो और इसके बाद आपको अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में जाना है तो इसके लिए आपको 11वीं क्लास में साइंस स्ट्रीम सब्जेक्ट चुन्नी चाहिए जिसमें Physics, Chemistry और Math विषय compulsory है।
इंटरमीडिएट क्लास में साइंस स्ट्रीम विषय लेने के बाद आपको एक बात को ध्यान देना बेहद जरूरी है कि इस विषय में आपको अच्छे नंबर लाने हैं। अगर आप इस पर अच्छे नंबर लाते हैं तभी आपको इस क्षेत्र में सफलता मिल सकता है।
इंटर कंप्लीट करने के बाद आपको ग्रेजुएशन करने के लिए बीएससी कोर्स को करना होता है जिसमें तीनों कंपलसरी सब्जेक्ट होते हैं physics, chemistry और math.
बीएससी से ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद आपको Astronomy Observation का कोर्स चुनना होता है।
अगर आपने पीएचडी का कोर्स कर रखा है या फिर बीएससी में आपकी अच्छे मार्क्स है तो आपको भारतीय अनुसंधान अंतरिक्ष संगठन में कार्य करने का अवसर मिल जाता है।
Astronomy Observation में आप मास्टर लेबल का कोर्स कर सकते हैं जिससे आपको भारतीय अनुसंधान अंतरिक्ष संगठन के द्वारा काफी लाभ मिल सकता है।
अगर आप खगोल विज्ञान में पीएचडी करना चाहते हैं तो आपको be के बाद Joint Entrance Screening Test को क्वालीफाई करना पड़ेगा।

Meteorology के क्षेत्र में कैरियर Option

अगर आपने Meteorology के रिक्वायरमेंट के आधार पर सारे कोर्स कर रखा है तो आपको जॉब के लिए इधर-उधर भटकने की कोई जरूरी नहीं है क्योंकि क्षेत्र में कैरियर को लेकर अनेक स्कोप अवेलेबल है जिसके बारे में हम अभी चर्चा करेंगे। इस क्षेत्र से रिलेटेड अगर आप एस्ट्रोलॉजी का कोर्स करते हैं तो इसमें काम करने के लिए आपको कभी बाधित नहीं किया जाता है इसमें आप निश्चित रूप से कार्य कर सकते हैं। यह कोर्स बहुत ही इंपॉर्टेंट है क्योंकि इस कोर्स की मदद से ना सिर्फ आप इस क्षेत्र में करियर बना सकते हैं बल्कि इसकी मदद से आप अपने जिंदगी में कोई भी काम वैज्ञानिक के रूप में आसानी से कर सकते हैं।
इस क्षेत्र में अगर आपको कैरियर बनाने में ज्यादा समय लग रहा है तो आप इस क्षेत्र से रिलेटेड टीचिंग का काम भी कर सकते हैं जिससे आप दूसरे छात्रों को इस फील्ड के बारे में शिक्षा देकर आप एक टीचर के रूप में पैसा कमा सकते हैं इसके अलावा आप शोध करके भी पैसे कमा सकते हैं। स्पेस साइंस की पूरी कोर्स कंप्लीट करने के बाद जब आप इस क्षेत्र में काम करने लगते हैं तो आपका स्टार्टिंग में 30000 से लेकर 40000 तक की इनकम मिल जाती है। यह इनकम आपके अनुभव के आधार पर मिलता है।

SPACE SCIENCE के बारे में

  1. खगोल विज्ञान में सूर्य, चंद्रमा, ग्रहों, तारों तथा आकाशगंगाओ के बारे में अध्ययन किया जाता है।
  2. खगोल भौतिकी में तारों या ग्रहों का जन्म और मृत्यु से जुड़ी तत्वों के बारे में विशेषताएं बताया जाता है।
  3. ब्रह्मांड विज्ञान में ब्रह्मांड की उत्पत्ति से लेकर ब्रह्मांड के विस्तार तक यह हर एक प्रक्रिया को विस्तार से बताया जाता है।
गृह विज्ञान में सौर मंडल में उपग्रहों और अन्य ग्रहों के मध्य अंडरस्टैंडिंग क्षमता को बढ़ाया जाता है।
तारीकीय की विज्ञान में सौर मंडल के सभी तारों को एक विशेष ढंग से सजाया जाता है जिससे कि ये सूर्य की स्थिति पर निर्भर हो पाते हैं।

One thought on “Meteorology in Hindi (अतंरिक्ष विज्ञान)”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *